*मुक्त-मुक्तक : 380 - पुलिस मिलिट्री से........................


पुलिस मिलिट्री से वानर टोली न बन जाये ॥
एटम बम से पिस्टल की गोली न बन जाये ॥
देख के अँग्रेजी के मारे हिन्दी की हालत ,
डर है कहीं वह भाषा से बोली न बन जाये ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार को (21-11-2013) चर्चा-1436 में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक