109 : मुक्त-ग़ज़ल - इतनी आबादी न थी........................


इतनी आबादी न थी तब आदमी था क़ीमती ॥
अब तो बकरे से भी सस्ती आदमी की ज़िंदगी ॥
पालना मुश्किल है इक औलाद का महँगाई में ,
फ़िर भी बच्चों पर भी बच्चे जन रहा है आदमी ॥
इक तरफ़ पंखे भी कूलर भी तबेले में लगे ,
और घर में फुंक रहा है गर्मियों में आदमी ॥
जैसे बस हो इक अनार और सैकड़ों बीमार हों ,
आजकल इक चीज़ ऐसी हो गई है नौकरी ॥
पहले महमाँ देखकर कहते थे घर आया ख़ुदा ,
अब तो मेहमानों से नफ़रत आदमी को हो रही ॥
यूँ तो हैं पहचान के कई सैकड़ों इस शहर में ,
पर मुझे अपना नहीं सचमुच लगा एकाध भी ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Shiv Raj Sharma said…
सुन्दर अभिव्यक्ति
Shiv Raj Sharma said…
सुन्दर अभिव्यक्ति
धन्यवाद ! Shiv Raj Sharma जी !

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा