L O C tension

अपने इन  हालात के ख़ुद ही तो हम जिम्मेदार नहीं ?
शांति शांति क्योंकर चिल्लाएँ ? क्या हम पे हथियार नहीं ?
समझ के दुश्मन फुफकारों को गीदड़ भभकी वार करे ,
क्या विषदंत का मालिक फिर भी डसने का हक़दार नहीं ?
नहीं बन रहा गिद्ध कबूतर बहुत कोशिशें कर देखीं ,
क्यों कपोत भी गरुड़-बाज बनने को फिर तैयार नहीं ?
अब जवाब ईंटों का हमको पत्थर से देना होगा ,
वरना दुश्मन समझेगा हम ताक़तवर दमदार नहीं ॥
वक़्त न लातों के भूतों पर बातों में बर्बाद करो ,
समझ न पाएगा अहमक़ जब तक देंगे फटकार नहीं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (28-10-2013)
संतान के लिए गुज़ारिश : चर्चामंच 1412 में "मयंक का कोना"
पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
हार्दिक धन्यवाद ! रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी !

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक