*मुक्त-मुक्तक : 339 - बिना गुनाह के.................


बिना गुनाह के 
सज़ा ही मिल गई यारों ॥
यूँ समझो जीते जी 
क़ज़ा ही मिल गई यारों ॥
किया है जिसने दिलो-
जाँ से इश्क़ तो लेकिन ,
वस्ल की जा जिसे 
जुदाई मिल गई यारों ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Anonymous said…
Very nice post. I just stumbled upon your blog and
wished to mention that I've really enjoyed surfing around your blog posts.

In any case I will be subscribing in your rss feed and I'm hoping
you write again soon!

Here is my web site: effective weight loss diet (roderickuapierce.Skyrock.com)

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा