Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Sunday, August 4, 2013

98 : मुक्त-ग़ज़ल - अपनी कविताओं में........


अपनी कविताओं में मैं अपनी व्यथा कहता रहा ॥
लोग मेरे सच को समझे मैं कथा कहता रहा ॥
मैं न चिंघाड़ा - दहाड़ा तब तलक हर मेमना ,
मुझको इक कुत्ता-सूअर-बक़रा-गधा कहता रहा ॥
हर जतन जिसने किया मुझको डुबोने का मैं उस
दोस्त को फिर फिर उबरकर नाख़ुदा कहता रहा ॥
जब तलक दुनिया है क्या मुझको समझ आई नहीं ,
अच्छे को अच्छा बुरे को मैं बुरा कहता रहा ॥
ख़ुदकुशी करने से क्या रोका उसे , ताज़िन्दगी
मेरे इस अहसां को उल्टा वो ख़ता कहता रहा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

8 comments:

Pratibha Verma said...

beautiful ...

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! Pratibha Verma जी !

Rudra Kourav said...

accha likhto ho sir

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! Rudra Korav जी !

Ghanshyam kumar said...

बहुत सुन्दर...!!
'ख़ुदकुशी करने से क्या रोका उसे, ताज़िन्दगी
मेरे इस अहसां को उल्टा वो ख़ता कहता रहा॥'

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! Ghanshyam kumar जी !

Yoginder Singh said...

bahut hi sunder

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ! Yoginder Singh जी !