*मुक्त-मुक्तक : 312 - जिससे ऊबा हूँ............



जिससे ऊबा हूँ रोज़-रोज़ मशक़ में आया ॥
जिसको चखते ही उल्टियाँ हों हलक़ में आया ॥
कैसे बोलूँ ये दस्तयाबी क़ामयाबी है ?
जिससे बचता था दूर रहता था हक़ में आया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म