*मुक्त-मुक्तक : 301 - तेरे चेहरे..................


तेरे चेहरे सा दूजा 
चौदहवीं का माहताब ॥
ढूँढ न सकेगा कोई 
लेके हाथ आफ़ताब ॥
तुझसी नाज़नीन तुझसी 
बेहतरीन महजबीन ,
तेरे आगे जन्नत की 
हूरें भी हैं लाजवाब ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म