मुक्तक : 297 - क्या ग़ज़ब की.............


क्या ग़ज़ब की उसने 
क़िस्मत पाई है यारों ॥
जुर्म कर कर के भी 
इज्ज़त पाई है यारों ॥
भोगते हैं नर्क हम 
सच्चाई पे चलकर ,
उसने छल-छंदों से 
जन्नत पाई है यारों ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म