मुक्तक : 274 - कब किसी क़िस्म..............

कब किसी क़िस्म की तदबीर काम आती है ?
नामो-शोहरत को तो तक़दीर काम आती है ॥
जब मुक़ाबिल हों तोपें बेहतरीन बंदूकें ,
तब गुलेलें न तो शमशीर काम आती है ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म