मुक्तक : 292 - माना वो 'तू'..............


माना वो तू के भी नहीं लायक़ पर आप बोल ॥
बच्चा है फिर भी उसको अपना माई-बाप बोल ॥
गर्दन दबी है तेरी अभी उसके पाँव में ,
बेहतर है उसके पाप अभी मत तू पाप बोल ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म