मुक्तक : 291 - न तिनका है न..............


न तिनका है न कश्ती है 
न इक पतवार अपना है ॥
चलो अब डूब जाने में ही 
बेड़ा पार अपना है ॥
यूँ लाखों से है पहचान औ’’ 
हज़ारों से मुलाक़ातें ,
मगर क्या फ़ाइदा इक भी 
न सच्चा यार अपना है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म