मुक्तक : 290 - न हाथ मिलाया न.............


न हाथ मिलाया न 
लिपटकर चला गया ॥
यों ही मिले बग़ैर
 पलटकर चला गया ॥
वादा किया था जिसने 
उम्र भर के साथ का ,
दो दिन में अपनी बात से 
नट कर चला गया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक