मुक्तक : 279 - वो मुझसे सरेआम..........



वो मुझसे सरेआम औ अकेले भी मिलती है ॥

पाते ही मेरे दीद मोगरे सी खिलती है ॥
लेकिन मेरे इजहारे मोहब्बत पे जाने क्यों ,
मौजों में पड़ी डूबती कश्ती सी हिलती है ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म