मुक्तक : 277- अपने पैरों पर............

अपने पैरों पर ख़ुद अपना ही वज़न उठता नहीं ॥
फिर भी सब ढोते हुए मेरा बदन दुखता नहीं ॥
ज़िंदगी चलना है रुकना मौत है मानूँ हूँ मैं ,
इसलिए बिन पैर भी मेरा चलन रुकता नहीं ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म