*मुक्त-मुक्तक : 269 - हर वक़्त बस.........


हर वक़्त बस तेरा ही नाम 
रखके ज़बाँ पर ॥
ढूँढूँ तुझे कहाँ - कहाँ 
जहां में यहाँ पर ॥
मत आ सही – 
सही पता ही अपना बता दे ,
ख़ुद लापता ख़ुदा 
मैं पहुँच जाऊँ वहाँ पर ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म