*मुक्त-मुक्तक : 268 - पोलिस वाले...............


पोलिस वाले इज्ज़त-प्यार से 
बोलेंगे ॥
बनिये दीन-ईमान से सौदा 
तोलेंगे ॥
बन जाएंगे हरिश्चंद्र जब 
सब नेता ,
कौए तब से कान में मिश्री 
घोलेंगे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म