*मुक्त-मुक्तक : 245 - चीख चिल्लाहट है............


चीख चिल्लाहट है कर्कश कान फोड़ू शोर है ॥
इस शहर में एक भागम भाग चारों ओर है ॥
सुख की सारी वस्तुएँ घर घर सहज उपलब्ध हैं ,
किन्तु जिसको देखिये चिंता में रत घनघोर है ॥
डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक