*मुक्त-मुक्तक : 243 - जिसे मिलना न था.......


जिसे मिलना न था इक बार 
बारंबार पाता है ॥
जो फूटी आँख न भाए 
मेरा दीदार पाता है ॥
करिश्मा उसकी क़िस्मत का
 मेरी तक़्दीर का धोखा ,
वो मेरा क़ाबिले नफ़रत 
मुझी से प्यार पाता है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

shishir kumar said…
Aaj-kal ki Muhabbat to ek khuli tizarat hai
haisiyat or Hushn dekh kar ab ishk kiyejatehain.
Nahi koe laila hai or nahi koe maznu hai,
ishk me diwanapan ye bat ab purani hai.
वाह ! धन्यवाद ! shishir kumar जी !

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे