*मुक्त-मुक्तक : 242 - खूब उथले हैं...........

खूब उथले हैं खूब गहरों के ॥
दिल हैं काले सभी सुनहरों के ॥
नाक है सूँड जैसी नकटों की ,
कान हाथी से यहाँ बहरों के ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म