*मुक्त-मुक्तक : 238 - बर्फ़ हैं लेकिन..........

बर्फ़ हैं लेकिन हमेशा दिल जला देते हैं वो ॥
पैर बिन ही पुरग़ज़ब ठोकर लगा देते हैं वो ॥
उनका हर इक काम हैरतनाक अजीबोग़रीब है ,
अपनी मासूमी के धोखे से दग़ा देते हैं वो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म