डर तो उन्हें नहीं है......................

डर तो उन्हें नहीं है किसी बात का लेकिन ,
न उनको इंतज़ार नखत रात का लेकिन ,
क्या सोच के बढ़े क़दम हठात रुक गए ?
आगे को जाते जाते पीछे हाथ रुक गए ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म