91 : मुक्त-ग़ज़ल - कह के आने की................


कह  के आने की गया आता नहीं ॥
उसके बिन कोई मज़ा आता नहीं ॥
अपनी सच्चाई छिपा कर सब मिलें ,
उससा कोई भी खुला आता नहीं ॥
यों हमारे साथ वो हर वक़्त है ,
देखने में जो ख़ुदा आता नहीं ॥
कोई मजबूरी है यों खुद्दार तो ,
छोड़ कर शर्मो हया आता नहीं ॥
क्या हुई तुझसे ख़ता जल्दी बता ,
तू कभी सर को झुका आता नहीं ॥
हर मुसीबत के लिए तैयार रह ,
कह के कोई ज़लज़ला आता नहीं ॥
मंदिर औ’’मस्जिद जहाँ पग पग पे हों ,
रास्ते में मयकदा आता नहीं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म