*मुक्त-मुक्तक : 232 - आज कच्चे ही.............


आज कच्चे ही सभी 
पकने लगे हैं ॥
इसलिए जल्दी ही सब 
थकने लगे हैं ॥
अपने छोटे छोटे 
कामों को भी छोटे-
छोटे भी नौकर 
बड़े रखने लगे हैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म