*मुक्त-मुक्तक : 230 - कभी भूले जो...............


कभी भूले जो मेरे साथ तू 
तनहा सफ़र करता ॥
भले दो डग या मीलों मील का 
लंबा सफ़र करता ॥
क़सम से सुर्ख़ अंगारों पे 
तलवारों पे भी चलते ,
मुझे महसूस होता था 
मैं जन्नत का सफ़र करता ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म