*मुक्त-मुक्तक : 223 - बछड़े के लिए..........

बछड़े के लिए कुछ तो दूध छोड़ दे कट्टर ॥
कितना दुहेगा रहम भी कर गाय के थन पर ॥
बिन दाँत के बछड़े को परोसे अभी से घास ,
दम है तो अपने दुधमुंहे के आगे रोटी धर ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म