*मुक्त-मुक्तक : 222 - बादल भरी................

बादल भरी दुपहरी में घनघोर हो गए ॥
बारिश हुई तो पेड़-पौधे मोर हो गए ॥
सूखे से हलाकान थे इंसान औ जानवर ,
होकर के तर-बतर मुदित विभोर हो गए ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 


Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म