*मुक्त-मुक्तक : 206 - जैसे कि दिल.............


जैसे कि दिल लगा के
 किताबात तुम पढ़ो ,
कब मेरा हालेदिल मेरी 
आँखों में पढ़ोगे ॥
मेरे तो रोम रोम में 
रग रग में बसे तुम ,
कब मुझको अपने दिल की 
पनाहों में रखोगे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Rajendra Kumar said…
क्या कहने बहुत ही बेहतरीन...
धन्यवाद ! Rajendra Kumar जी !

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी