*मुक्त-मुक्तक : 195 - दिल में उनके..............


दिल में उनके सिवा 
न दूसरा सवार रहा ॥
उनके क़ाबिल न थे 
फ़िर भी उन्हीं से प्यार रहा ॥
वो न आएंगे 
ख़ूब जानते थे  हम लेकिन ,
एक उनका ही 
मरते दम तक इंतज़ार रहा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म