*मुक्त-मुक्तक : 192 - दुनिया की हर.............



दुनिया की हर ख़ुशी समेट ग़म को पीट-पाट ॥ 
कैसी हो ज़िंदगी को चाह दिल से चूम-चाट ॥ 
हालात हों कितने भी बरखिलाफ़ मुक़ाबिल ,
जीने से न डर मौत की कर डाल खड़ी खाट ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म