क्या क्या अजीब.....................

क्या क्या अजीब शौक़ लोग पाल कर चलें ?
पैरों में टोप सिर में जूते डाल कर चलें !
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म