महँगाई यूँ तो................

महँगाई यूँ तो डालती है
 हर दफ़ा ही फ़र्क ॥
इस बार मगर डर है 
हो न जाये बेड़ा गर्क ॥
गिर जाये मुँह के बल 
न ये सरकार देखना ,
महँगाई के ही पक्ष में
 देती रही जो तर्क ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक