उठकर ज्यों है.....................

उठकर ज्यों है आदत 
मंजन करने की ॥
रोज़ नहाने – धोने 
भोजन करने की ॥
टाइम – पास नहीं मेरा 
कविता करना ॥
राधा – मीरा का 
श्रीकृष्ण पे है मरना ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म