तुम मुझे चाहे मत...............


तुम मुझे 
चाहे मत कभी मिलना ,
पर मुझे 
चाहना न तजना तुम ॥
तुम मेरा नाम 
किसी सूरत में ,
भूलना मत 
भले न भजना तुम ॥
   -डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा