हो कितनी खूबसूरत.................


हो कितनी ख़ूबसूरत 
जस परी या अप्सरा ॥
न पा पाती है 
बीवी का तवायफ़ ओहदा ॥
ज़माना इनके मानी में
 करे कुछ फ़र्क़ यों ,
कि  इक मस्जिद हो जैसे 
दूसरी हो मैक़दा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म