किसी के दिल में ..............


किसी के दिल में कुछ ऐसे 
सलीके से रहा जाये ॥

किरायेदार से इक दिन 
मकाँ मालिक बना जाये ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक