*मुक्त-मुक्तक : 187 - सचमुच विनम्रता..............


सचमुच 
विनम्रता तो जैसे खो गई ॥
अहमण्यता 
प्रधान सबमें हो गई ॥
दिन रात हम में 
स्वार्थ जागता गया ,
परहित की भावना
 दुबक के सो गई ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक