Sunday, April 28, 2013

*मुक्त-मुक्तक : 184 - अपने ख़स्ता..........


अपने ख़स्ता हाल पे 
औरों के धन से चिढ़ हो ॥
देख देख अपना बूढ़ापन 
यौवन से चिढ़ हो ॥
और यही मन 
और भी दुःख देता है जब अपना ,
रोग असाध्य हो 
तो स्वस्थों के जीवन से चिढ़ हो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...