*मुक्त-मुक्तक : 181 - हंस के सिर..................


हँस के सिर आँखों पे 
उठाई ही क्यों जाती है ?
जब बुरी है तो फ़िर 
बनाई ही क्यों जाती है ?
इतनी नापाक़ है 
गंदी है फ़िर बताओ शराब ,
पीयी जाती है और
 पिलाई ही क्यों जाती है ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म