*मुक्त-मुक्तक ; 162 - स्वयं को सिंह...............


स्वयं को सिंह उनको मृगछौना बनाने के लिए ॥
ख़ुद को बोतल उनको अधपौना बनाने के लिए ॥
उनको गड्ढे में गिराने का न कर कुत्सित जतन ,
आस्माँ बन जा उन्हें बौना बनाने के लिए ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा