*मुक्त-मुक्तक : 156 - हर वक़्त जेहनोदिल में...............



हर वक़्त जेहनोदिल में इक ही सवाल था ॥
क्यों बर्फ़ का सुलगते शोलों सा हाल था  ?
देखा कभी न जिसको दुश्मन पे भी खफ़ा ,
अपनों पे आज वो ही ग़ुस्से से लाल था ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे