*मुक्त-मुक्तक : 152 - रहा करते हैं तनहाई...............


रहा करते हैं तनहाई में 
हर इक छोड़ दी महफ़िल ॥
नशे में अब फिरा करते हैं 
गलियों में हुए गाफ़िल ॥
कि जबसे हो गए नाकामयाब
 इक अपने मक़सद में ,
तभी से मौत को अपनी 
मुक़र्रर की नई मंज़िल ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक