*मुक्त-मुक्तक : 147 - जबकि जी भर...............


जबकि जी भर के 
सताया है रुलाया है मुझे ॥
फ़िर भी लगता है 
मोहब्बत ने बनाया है मुझे ॥
उसको पाने को ही 
सिफ़र से हुआ था मैं हज़ार ,
उसके न मिलने ने 
मिट्टी में मिलाया है मुझे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति  

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक