*मुक्त-मुक्तक : 141- जैसे कि तेरी...................


जैसे कि तेरी फ़ितरत है 
सिर्फ़ दग़ा करना ॥
मेरी है वफ़ा सिर्फ़ वफ़ा 
सिर्फ़ वफ़ा करना ॥
शामिल है तेरी ख़ूबी में 
डसना साँप अगर ,
मैं चाराग़र हूँ मेरा है 
फर्ज़ दवा करना ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म