*मुक्त-मुक्तक : 88 - जन्म से कठिनाई..............


जन्म से कठिनाई का अभ्यस्त हूँ ॥
धुर समस्याओं से अब भी ग्रस्त हूँ ॥
किन्तु दुःख को पुत्रवत जब से जिया ,
अब न आतंकित हूँ और न त्रस्त हूँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म