63 : मुक्त-ग़ज़ल - आज बदल कर............


आज बदल कर मैं ख़ुद को रख डालूँगा ॥
जो जो कभी नहीं था मुझमें पालूँगा ॥
कल कल करते रहा मगर कल न आया ,
आज से कुछ भी कभी न कल पर टालूँगा ॥
दिन आए आराम किए बिन चलने के ,
राहों पे चलते चलते सुस्ता लूँगा ॥
कैसे गिरने दूँ उसको वो मेरा है ,
मैं ख़ुद फिसल फिसल कर उसे सम्हालूँगा ॥
उन आँखों के जाम मुहैया हैं जब तक ,
मैख़ाने की आँख में आँख न डालूँगा ॥
उसका अमृत पीने से तो मौत भली ,
तेरा जहर प्रसाद समझकर खा लूँगा ॥
गुस्से में आकर जिसको ठुकराया है ,
ग़र कर दें वो माफ़ तो फ़िर अपना लूँगा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

धन्यवाद ! Urmila Madhav जी !
बहुत ही उम्दा रचना मित्रवर
धन्यवाद ! JAGDISH PANDEY ALLAHABAD जी !

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म