*मुक्त-मुक्तक : 134 - उसके दर्दे दिल...............


उसके दर्दे दिल जिगर की मैं दवा बनकर रहूँ ॥
गर्मियों की लू लपट में सर्द हवा बनकर रहूँ ॥
यों मुझे देता है वो बस दर्दो ग़म रंजो अलम ,
वो मेरा है इसलिए उसका मज़ा बनकर रहूँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति  

Comments

Anonymous said…
I blog quite often and I truly appreciate your information. This great article has really
peaked my interest. I am going to book mark your blog and keep checking
for new details about once per week. I subscribed to your RSS feed too.


my site: domain

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे