*मुक्त-मुक्तक : 120 - 12,14,16.......कितने........


12 , 14 , 16............कितने साल का हो लुच्चा समझो ॥
लूटे जो लड़की की अस्मत उसको मत बच्चा समझो ॥
पकड़ के उसको सरेआम कर दो औरत के नाक़ाबिल ,
इसको कोई पाप नहीं पूजा समझो अच्छा समझो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म