66 - मुक्त-ग़ज़ल : हर ग़ज़ल का............


हर ग़ज़ल का शेर मत्ला तड़फड़ाती जान है ॥
ये तेरा दीवान है कि दर्दों ग़म की खान है ॥
दिल में लाखों ग़म हँसी चेहरे पे लेकिन छाई है ,
वाह रे तेरी अदाकारी पे दिल क़ुर्बान है ॥
खनखनाती पुरक़शिश आवाज़ की मैं क्या कहूँ ,
बोलता है तू तो बस लगता है कोरस गान है ॥
धीरे धीरे तुझको भी आ जाएगा इसका यकीं ,
प्यार भी बिकता है वो इक चीज़ है सामान है ॥
ख़ूबरूई , बाँकपन , मासूमियत का राज़ इक ,
इन हसीं पर्दों में छिपकर बैठता शैतान है ॥
पूछ मत इस सूट के इस बूट के अंदर का राज़ ,
छेद मोज़ों में फटी चड्डी छनी बानियान है ॥
आजकल तो भीड़ में भी लुट रहे हैं लोग बाग ,
रख ले कुछ हथियार वो रस्ता बड़ा सुनसान है ॥
उसकी नज़रों में भी देखी हैं हवस की बिजलियाँ ,
आजकल के दौर में जो पूजता हनुमान है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Anonymous said…
Your mode of explaining the whole thing in this piece of writing is actually
good, all be capable of effortlessly understand it, Thanks a lot.


Look at my web page: Efficient Weight (Http://Wendywbbundren.Wallinside.Com)

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक