Saturday, February 9, 2013

37. ग़ज़ल : लस्त पस्तों की......


लस्त-पस्तों की कसक को जक मिले II  
हम से जल-भुन कर लपक ठण्डक मिले II 
सब ख़ुशामदियों के जैसे सामने ,
पीठ पीछे सब चहक निंदक मिले II  
बदनसीबी थी हमारी और क्या ,
हंस की मेहनत के बदले वक मिले II  
भीख में या इत्तिफ़ाक़न औ' न ख़ुद ,
लड़-झगड़ कर हमको ये चक हक़ मिले II  
दिख गई भूले अगर इंसानियत ,
मज़्हबी बेशक़ कलक भौचक मिले II  
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...