*मुक्त-मुक्तक : 18 - बहुत बुरा हो फिर भी .......


बहुत बुरा हो फिर भी उसको बहुत भला ही कहती है ॥
अपना गंदा बच्चा भी माँ दूध धुला ही कहती है ॥
नहलाते-नहलाते अपने कौए से बच्चे को माँ ,
हंस कभी कहती तो कभी लक-दक बगुला ही कहती है ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म